इतिहास

भारत में धर्म तथा समाज सुधार आंदोलन

19वी शताब्दी को विश्व के इतिहास में अत्यंत महत्वपूर्ण माना जाता है।यह शताब्दी बस भारत के लिए धार्मिक तथा सामाजिक पुनर्जागरण का संदेश लेकर आई थी।इस शताब्दी में भारत पराधीन था और उसका सामाजिक तथा धार्मिक जीवन तीव्र गति से नीचे गिरा रहा था।उसी समय राजा राममोहन राय दयानंद सरस्वती तथा विवेकानंद आदि ने भारतीय …

भारत में धर्म तथा समाज सुधार आंदोलन Read More »

भारत की प्रमुख नदियां

भारत की प्रमुख नदियां भारत की प्रमुख नदियां निम्नवत वर्गीकृत की जा सकती है- उत्तर भारत की प्रमुख नदियां उत्तरी भारत में नदियों के निम्न तीन तंत्र पाए जाते हैं- सिंधु क्रम की नदियां सिंधु नदी लद्दाख श्रेणी के उत्तर से निकलती है।अनेक श्रेणियों व शिखरों से हिम नदियों का जल प्राप्त करके यह नदी …

भारत की प्रमुख नदियां Read More »

गोलमेज सम्मेलन

प्रथम गोलमेज सम्मेलन (12 नवंबर 1930 ईस्वी) साइमन कमीशन के सुझाव के अनुसार बढ़ती समस्याओं को सुलझाने के लिए लंदन में प्रथम गोलमेज सम्मेलन का आयोजन किया गया। इसका उद्घाटन 12 नवंबर 1930 ईस्वी को लंदन में किया गया।सम्मेलन की अध्यक्षता ब्रिटेन के प्रधानमंत्री रैम्जे मैकडोनाल्ड ने की। इस सम्मेलन में कुल 86 प्रतिनिधियों ने …

गोलमेज सम्मेलन Read More »

प्रथम स्वतंत्रता संग्राम: कारण एवं परिणाम

भारत का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम 19वीं शताब्दी के आरंभ में जब फ्रांस की क्रांति और इटली तथा जर्मनी के एकीकरण आदि घटनाओं की जानकारी भारतीयों को हुई तो उन्हें भी अपने देश को स्वतंत्र कराने के लिए तथा अंग्रेजों के शासन से मुक्ति पाने की इच्छा जाग्रत हुई। अंग्रेजों की शोषण पूर्ण तथा दमनकारी नीति …

प्रथम स्वतंत्रता संग्राम: कारण एवं परिणाम Read More »

मौर्य साम्राज्य

सम्राट अशोक के कारण ही मौर्य साम्राज्य सबसे महान एवं शक्तिशाली बनकर विश्वभर में प्रसिद्ध हुआ। चंद्रगुप्त मौर्य मौर्य वंश का संस्थापक चंद्रगुप्त मौर्य का जन्म 345 ईसा पूर्व में हुआ था।चंद्रगुप्त मौर्य ने कुटिल राजनीतिग्य के तक्षशिला के आचार्य चाणक्य की सहायता प्राप्त करके मात्र 23 वर्ष की आयु में चाणक्य की सहायता से …

मौर्य साम्राज्य Read More »

भारत के वंश

गुप्त वंश गुप्त वंश (319ई॰ -550ई॰) के प्रमुख शासकों में- चंद्रगुप्त प्रथम, समुद्रगुप्त, चंद्रगुप्त द्वितीय, कुमार गुप्त, गुप्त जैसे प्रतापी शासक हुए। उनका शासन लगभग 200 वर्षो चला। कुषाण वंश के अंतिम शासक वासुदेव को पद से हटाकर श्री गुप्त ने गुप्त वंश की स्थापना की थी। श्री गुप्त के बाद उसका पुत्र घटोत्कच इस …

भारत के वंश Read More »

धर्म

धर्म का शाब्दिक अर्थ होता है, ‘धारण करने योग्य’सबसे उचित धारणा, अर्थात जिसे सबको धारण करना चाहिये’। हिन्दू, मुस्लिम, ईसाई, जैन या बौद्ध आदि धर्म न होकर सम्प्रदाय या समुदाय मात्र हैं। शैव धर्म यह भगवान शिव से संबंधित है और इनकी पूजा करने वाले शैव कहलाते हैं। शिवलिंग उपासना का प्रारंभिक पुरातत्व छात्र हमें हड़प्पा संस्कृति से …

धर्म Read More »

बौद्ध धर्म

बौद्ध धर्म के संस्थापक महात्मा बुद्ध थे। जिनका जन्म 563 ईसा पूर्व कपिलवस्तु के निकट लुंबिनी नामक ग्राम में शाक्य कुल के राजा शुद्धोधन के घर में हुआ था। इनकी माता का नाम महामाया था। महात्मा बुद्ध के जन्म के सातवें दिन इनकी माता की मृत्यु हो गई। उनका पालन पोषण इन्हीं की मौसी प्रजापति …

बौद्ध धर्म Read More »