कोरोना 2019

कोरोना वायरस

कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिससे संक्रमित होकर लोगो को

  • सांस लेने में तकलीफ,
  • जुकाम,
  • खांसी,
  • आंखों के पास कालापन तथा सूजन होना,
  • दिन पर दिन शरीर का कमजोर होना

इस वायरस को इससे पहले कभी नहीं देखा गया। यह वायरस सर्वप्रथम दिसंबर के महीने में चीन के वुहान से शुरू हुआ था। जो धीरे-धीरे पूरी दुनिया पर बढ़ता चला जा रहा है। इसको नष्ट करने के लिए सभी देश वैक्सीन नहीं बनाने की कोशिश कर रहे है। आज यह विश्व के सभी देशों के लिए एक बड़ा संकट बना हुआ है। कोरोना वायरस (COVID-19) के संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या 16,590 से ऊपर हो गयी है।

कोरोना वायरस

कोरोना वायरस की उत्पत्ति

इस वायरस की शुरुआत एक नए किस्म कोरोनवायरस (2019-nCoV) के संक्रमण के रूप में मध्य चीन के वुहान शहर में दिसंबर 2019 में हुई। बहुत से लोगों को बिना कारण के निमोनिया होने लगा। साथ में यह भी देखा गया कि बहुत से लोगों में ज्यादातर लोग मछलियां तथा जीवित पशुओं का व्यापार करते थे। संक्रमण का पता लगाने के लिए एक विशिष्ट पीसीआर परीक्षण के साथ कई मामलों की पुष्टि उन लोगों से हुई जो सीधे व्यापार से जुड़े हुए थे।

यह वायरस कितना खतरनाक है आयिये देखते है इटली में यह कितनी तेजी और भयानक तरीके से कोरोना फैला है-

स्टेज प्रथम (पहला चरण):

  • पहले चरण में आपको लगेगा कि कोरोना वायरस ऐसी कोई चीज है। मगर आपके देश में यह अभी अभी शुरू हुआ है। इसलिए आप सोचते हैं कि डरने की कोई बात नहीं है, क्योंकि यह बस एक तरह का जुकाम है।
  • प्रथम चरण में आप सोचते हैं कि यह क्या हर कोई पागल हो रहा है? मास्क और टॉयलेट पेपर के लिए ऐसा कुछ तो होने वाला है नहीं मेरी जिंदगी तो आराम से चलती रहेगी।

स्टेज द्वितीय (दूसरा चरण):

  • दूसरे चरण में धीरे-धीरे देश में मरीजों की संख्या बढ़ने लगती है। यह देखते हुए सरकार 12 शहरों की सीमाएं प्रतिबंधित कर देती है। आपको यह समझ आता है कि डरने की कोई बात नहीं है सब कुछ ठीक-ठाक है।
  • कुछ लोगों की मौतें होती हैं मगर वह सब बड़े लोग होते हैं, मीडिया उस पर हाय तौबा मच आता है।
  • हम सोचते हैं कि यह अच्छी बात नहीं है, लोग अपने दोस्तों यारों से मिलते रहते हैं, नॉर्मल जिंदगी चलती रहती है और हमें यह लगता है कि हमें कुछ नहीं होगा।

स्टेज तृतीय (तीसरा चरण):

धीरे-धीरे संक्रमित लोगों का आंकड़ा बढ़ने लगता है। एक दिन में ही दुगने लोग संक्रमित होते जाते हैं मौत का आंकड़ा बढ़ जाता है। इससे सरकार चार बड़े इलाकों को प्रतिबंधित कर देती है। फिर इटली के 25% लोगों को घरों में रहने के लिए बंद कर दिया जाता है। फिर कुछ क्षेत्रों में स्कूल, बार और रेस्टोरेंट बंद कर दिए जाते हैं। मगर ऑफिस अभी भी खुले हैं। सरकारी नियमों को मीडिया और अखबार पहले ही प्रकाशित कर देते हैं।

इटली के करीब 10,000 लोग जिन्हें दूसरे इलाकों में सरकार ने रोक कर रखा था। वह एक ही रात में वहां से निकल कर अपने अपने घर वापस पहुंच जाते हैं। इटली के लगभग 75% लोग अपने रोजमर्रा के कामों में व्यस्त रहते हैं। इटली के लोग अभी भी इस वायरस के आपदा नहीं समझ पा रहे हैं। हर जगह इटली में लोगों को यह बताया जा रहा है कि थोड़ी-थोड़ी देर में अपने हाथों से लोग ग्रुप में या भीड़ में ना खड़े हो। टीवी पर हर 10 मिनट में यह समझाया जा रहा है। मगर यह बातें लोगों के दिमाग में नहीं बैठ रही हैं।

स्टेज चतुर्थ (चौथा चरण):

अब इटली में डॉक्टर और नर्सों की कमी पड़ने लगी है। अब जितने भी डॉक्टर रिटायर हो चुके हैं। उन्हें भी वापस नौकरी पर बुला लिया जाता है। जिसे छात्रों की डॉक्टरी की पढ़ाई का दूसरा साल हुआ है उन्हें भी नौकरी पर बुला लिया जाता है। इससे भी डॉक्टर और नर्स के लिए कोई भी शिफ्ट नहीं है। 24 घंटे काम करना है सबको अब डॉक्टर और नर्स भी संक्रमित हो रहे हैं। अब और उन लोगों से उनके परिवारों को भी वायरस अपनी चपेट में ले रहा है।

कोरोना वायरस कैसे तेजी से फैलता है?

यह वायरस मुख्य रूप से हवा की बूंदों के द्वारा फैलता है। जब एक व्यक्ति संक्रमित होकर खांसी या 1 मीटर के दायरे तक छीकता है तो इसके फैलने के चांस ज्यादा होते हैं। यह वायरस संक्रमित लोगों से हाथ मिलाने से, उनसे बात करने से तथा उन्हें छूने से फैलता है। यह वायरस इतनी सरलता से फैलता है कि हमें इसकी भनक भी नहीं लगती है। यहां हैंडल और रेलिंग के माध्यम से भी फैल सकता है। लोगों के बीच वायरस का प्रभाव परिवर्तनशील रहा है। कुछ प्रभावित लोगों ने वायरस को दूसरों तक नहीं पहुंचाया है, जबकि अन्य संक्रमित लोगों ने दूसरे संक्रमण लोगों में इसे पहुंचाया है।

कोरोना वायरस से मृत्यु दर

  • 10 साल तक के बच्चों में 0%
  • 11 से 40 वर्ष के लोगो में 0.2%
  • 41 से 50 वर्ष के लोगों में 0.4%
  • 51 से 60 वर्ष के लोगों में 1.2%
  • 61 से 70 वर्ष के लोगों में 3.6%
  • 71 से 80 वर्ष के लोगों में 8.6%
  • 80 वर्षों से ज्यादा लोगों में 14%

कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए WHO ने क्या-क्या कदम उठाए?

डब्ल्यूएचओ ने कोरोना वायरस को एक महामारी घोषित कर दिया है। दुनिया भर में कोरोना वायरस ने हाहाकार मचा रखी है। इसके प्रकोप को रोकने के लिए आइसोलेशन में रहने की सलाह दी जा रही है। इसीलिए देश की सरकार ने लॉक डाउन जैसे कदम उठाए हैं।

डब्ल्यूएचओ के वरिष्ठ आपात व्यवस्था के विशेषज्ञ माइक रेयान का कहना है कि हमें ऐसे लोगों को ढूंढने की जरूरत है जो वायरस से संक्रमित हैं उन लोगों को आइसोलेट करने की जरूरत है। उन्होंने कहा अगर हमारी सार्वजनिक स्वास्थय सुविधाएं बेहतर नहीं होगी। लॉक डाउन तेजी से फैलेगा और बढ़ेगा। चीन, सिंगापुर और दक्षिण कोरिया का उदाहरण यूरोप के लिए एक मॉडल साबित हुआ है। जबकि पहले WHO कोरोना वायरस का केंद्र एशिया बताया था।

रेयान कहते है- लोगों को यथार्थवादी होने की जरूरत है। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि यहां बिल्कुल सुरक्षित हो। इसमें कम से कम 1 साल लग सकता है वैक्सीन को बाजार आने में। लेकिन हमें घरों से भी निकलने की जरूरत है इसलिए जो करना है वह अभी ही करना होगा।

March Current Affairs 2020

भारत सरकार के द्वारा कोरोना से बचने के उपाय

दुनिया में चल रहे कोरोना वायरस से भारत अभी पूरी तरह से तो प्रवाहित नहीं हो पाया है। लेकिन सरकार ने इससे लड़ने के लिए बहुत बड़े कदम उठाए हैं।

  • कोरोना वायरस से जुड़ी शिकायतों के लिए एक कॉल सेंटर शुरू किया गया है इस कॉल सेंटर का नंबर 01123978046 है। यह फिलहाल 24 घंटे काम कर रहा है।
  • 21 हवाई अड्डों और बंदरगाहों पर व्यक्तियों की थर्मल स्क्रीनिंग जांच शुरू की गई है। थर्मल स्क्रीनिंग वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा कोरोना वायरस की जांच की प्रक्रिया की जाती है।
  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार अब तक भारत में 70 से अधिक लोग वायरस के संक्रमण में है और 1400 से अधिक लोगों को निगरानी में रखा गया है।

उसी तरह दुनिया के 117 देशों में कोरोना के मामले दर्ज किए जा रहे हैं। आज पूरे भारत में लाग डाउन चालू कर दिया गया है यह लॉक डाउन 21 दिनों तक चलेगा इस लॉक डाउन का मतलब है कि लोग बाहर ना निकले और अपने घर पर ही रहे।

भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण को ध्यान रखते हुए एडवाइजरी जारी की जिसमें बताया गया कि भारत में किसी अन्य देश से आए हुए लोग अपने स्तर पर जांच करें। और भारत सरकार के द्वारा जारी किए गए हिदायतो पर गौर करें।

1 thought on “कोरोना वायरस”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.